यूं बनाएं खस्ता-करारी मूंग दाल की कचौरी

0
191

कुछ ही दिनों में वट सावित्री अमावस्या है. जाहिर है, आप भी व्रत करेंगी और पकवान भी बनायेंगी. हर बार वही पूरी,कचौरी-सब्जी खा खा कर सभी बोर हो जाते हैं, तो क्यों न इस बार कुछ अलग ट्राय करें. इस बार बनाएं मूंग दाल की कचौरी. हम बताते हैं कि कैसे आप जल्दी से बना सकती हैं मूंग दाल की कचौरियां.

क्या चाहिए
आटा गूथने के लिये
मैदा – 2 कप (250 ग्राम)
तेल – 1/4 कप (60 ग्राम)
नमक – आधा छोटी चम्मच

पिठ्ठी के लिये
मूंग दाल – आधा कप (100 ग्राम) ( 2 घंटे पानी में भीगी हुई)
हरा धनियां – 2 टेबल स्पून, बारीक कटा हुआ.
हरी मिर्च – 2 बारीक कटी हुई
धनियां पाउडर – 1 छोटी चम्मच
सोंफ पाउडर – 1 छोटी चम्मच
लालमिर्च – 1/4 छोटी चम्मच
हींग – 1 पिंच
अदरक पाउडर – 1/2 छोटी चम्मच या (1 इंच अदरक को कद्दूकस करके ले लीजिये)
नमक – आधा छोटी चम्मच (स्वादानुसार)
गरम मसाला – 1/4 छोटी चम्मच
जीरा – आधा छोटी चम्मच

कैसे बनाएं
मैदा को किसी बड़े डोंगे में डाल लीजिये, नमक और तेल मैदा में डालकर अच्छी तरह मिला लीजिये, और थोड़ा थोड़ा पानी डालकर नरम चपाती के आटे जैसा आटा गूंथ कर तैयार कर लीजिये, आटे को ज्यादा मसल कर चिकना मत कीजिये. आटे को ढककर 15-20 मिनिट के लिये रख दीजिये, आटा फूल कर सैट हो जायेगा. जब तक आटा सैट होता है तब तक पिठ्ठी बनाकर तैयार कर लीजिये.

पिठ्ठी:
मूंग की भीगी हुई दाल को दरदरा पीस लीजिये, पैन गरम कीजिये, पैन में 3- 4 टेबल स्पून तेल डाल दीजिये, तेल गरम होने पर, जीरा डाल दीजिये, जीरा भुनने पर हींग डालिये, हरी मिर्च, धनियां पाउडर, सोंफ पाउडर और मसाले को हल्का सा भून लीजिये, पिसी हुई दाल डाल दीजिये, नमक, गरम मसाला, अदरक पाउडर और लाल मिर्च पाउडर भी डालकर मिला दीजिये, और दाल को लगातार चलाते हुये एकदम सूखने तक और अच्छी महक आने तक भून लीजिये (अगर दाल कढ़ाई में चिपक रही हो तो थोड़ा तेल और डालिये). भुनी दाल को प्याले में निकाल लीजिये ताकि वह जल्दी से ठंडी हो जाय.

आटा सैट हो कर तैयार है, आटे से छोटे नीबू के आकार की लोई तोड़कर, गोल कर लीजिये. एक लोइ उठाइये और हाथ पर रखकर उसे उंगलियों की सहायता से बड़ा कर, टोकरी जैसा बना लीजिये. आटे की इस टोकरी में 1 चम्मच दाल की पिठ्ठी डाल दीजिये और आटे को चारों ओर से उठाकर पिठ्ठी को अच्छी तरह बन्द कर दीजिये, सारी कचौरियां इसी तरह भरकर तैयार कर लीजिये.

कचौरियां तलने के लिये कढ़ाई में तेल डालकर गर्म कीजिये. कचौरियां तलने के लिये तेल को मीडियम गर्म ही कीजिये और भरी हुई कचौरी को हाथ से या बेलन से हल्का दबाव देते हुये मोटी कचौरी बेल कर तैयार कर लीजिये, और कचौरी बेल कर मीडियम गरम तेल में डाल दीजिये, जितनी कचौरी एक बार कढ़ाई में आ जाय उतनी कचौरी कढ़ाई में डाल दीजिये. कचौरियां जब फूल कर तैरने लगे और नीचे की ओर से थोड़ी सिक जाय तब उन्हैं पलट दीजिये, कचौरियों को पलट पलट कर गोल्डन ब्राउन होने तक तल लीजिये, गैस मीडियम और धीमी रखिये, तब ही कचौरियां खस्ता बनेंगी. गोल्डन ब्राउन कचौरियों को प्लेट में लगे नैपकिन पर निकाल कर रख लीजिये. सारी कचौरियां इसी तरह तल कर तैयार कर लीजिये.

मूंग की दाल की खस्ता कचौरियां तैयार है, कचौरियों को हरे धनिये की चटनी या मीठी चटनी के साथ परोसिये, कचौरियां इतनी स्वादिष्ट बनी है, इन्हैं बिना चटनी के ही खा सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here