(कविता) जो पुल बनायेंगे – अज्ञेय

0
222

जो पुल बनाएँगे
वे अनिवार्यतः
पीछे रह जाएँगे।
सेनाएँ हो जाएँगी पार
मारे जाएँगे रावण
जयी होंगे राम;
जो निर्माता रहे
इतिहास में बन्दर कहलाएँगे।

अज्ञेय

कविता संग्रह (पहले मैं सन्नाटा बुनता हूँ ) से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here